Tuesday, October 19, 2021
Home स्वास्थ्य मुलेठी / यष्टीमधु अनेक रोगों की श्रेष्ठ औषधि

मुलेठी / यष्टीमधु अनेक रोगों की श्रेष्ठ औषधि

दौरे पड़ना (फिट आना)-

सवेरे एवं सायंकाल 1 छोटी  चम्मच मुलेठी चूर्ण आधा गिलास कुम्हडे के रस के साथ 6 माह तक लें।           

मुंह, गले या कफ़ की समस्या में –

मसूडों से खून आना / पायरिया-

दोनों समय के भोजन के उपरांत 1 छोटी  चम्मच  मुलेठी चूर्ण एवं 1 छोटी चम्मच काले तिल के साथ चबाएं एवं 5 मिनट के बाद गुनगुने पानी से कुल्ला करें लगातार 7 दिन।     

मितली, सिर दर्द  तथा एसिडिटी के लिए-         

4 चम्मच चूर्ण 2 गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पिने से शीघ्र लाभ होता है।   

कब्जियत-

दोनों समय भोजन के पूर्व 1 चम्मच चूर्ण व चुटकीभर नमक गुनगुने पानी के साथ 15 दिनों तक लें।

चेहरे का सौंदर्य या मुंहासों के लिए-

चूर्ण दूध में मिलाकर पतला लेप लगाएं तथा सूखने पर धो लें। यह 15 दिनों में चमत्कारिक असर लायेगा।           

मुलेठी चूर्ण को दूध में मिलाकर पतला लेप लगाएं तथा सूखने पर धो लें। यह 15 दिनों में चमत्कारिक असर लायेगा।           

उष्णता के लक्षण-

(गर्म पदार्थ सहन न होना, मुंह के छाले, देह में जलन, मूत्रमार्ग में जलन, देह पर फुंसी होना, चक्कर आना)       

सुबह-शाम 1 चम्मच चूर्ण 1 चम्मच घी के साथ 15 दिनों तक लें।     

कम वजन व थकान-

सुबह खाली पेट व्यायाम करने के 30 मिनट बाद 1 चम्मच चूर्ण 1 कप दूध एवं 2 चम्मच घी के साथ लें तथा 1 घंटे तक कुछ भी न खाएं-पीएं। 3 माह लगातार सेवन सारी कमजोरी दूर कर देगा।

बुखार-

सुबह-शाम आधा चम्मच मुलेठी चूर्ण, आधा चम्मच तुलसीका रस, आधा चम्मच अदरक का रस एवं 1 चम्मच शहद का मिश्रण 3 से 5 दिनों तक लें।    

सूजन-

मुलेठी चूर्ण में आवश्यकतानुसार गुनगुना पानी मिलाकर गाढा लेप बनाएं तथा एक घंटे बाद लेप गुनगुने पानीसे धो लें, 7 दिनों तक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बिहार में पंचायत चुनाव की बजी बिगुल, 10 चरण में चुनाव

निर्वाचन आयोग की घोषणा के साथ राज्य में पंचायत चुनाव 2021 की अधिसूचना लागू हो गयी है। 10 चरणों में पंचायत चुनाव...

मुलेठी / यष्टीमधु अनेक रोगों की श्रेष्ठ औषधि

दौरे पड़ना (फिट आना)- सवेरे एवं सायंकाल 1 छोटी  चम्मच मुलेठी चूर्ण आधा गिलास कुम्हडे के रस के साथ...

Recent Comments