Thursday, October 28, 2021
Home जीवन की राह एलर्जी का समाधान

एलर्जी का समाधान

एलर्जी एक ऐसी बीमारी है जो बहुत ज्यादा परेसान करती है. जांच पर जाँच और इलाज करा-करा कर लोग थक हार जाते हैं, पर समाधान नहीं होता.

हजारों लाखों रूपये फुकने के बाद आखिर में डॉक्टर यह कह देते हैं कि यह ठीक नहीं होगी. कुछ दवाएं लिख देते हैं और फिर उन दवाओं पर जीवन भर निर्भर रहने की सलाह

इसमें खतरनाक बात तो यह है कि इनमे से कई दवाएं तो ऐसी होती हैं, जो एलर्जी की तकलीफ से थोड़ी बहुत तत्कालिक राहत तो देती हैं, पर शारीर के विभिन्न अंगों पर घातक और दूरगामी, गहरे और प्रतिकूल साइड इफेक्ट छोड़ जाती हैं

साथ ही जानेंगे कि कुछ ऐसी घरेलु और आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में चर्चा करेंगे जो एलर्जी के इलाज में रामबाण और सुरक्षित मानी जाती हैं.

य़दि आपको एलर्जी है तो सर्वप्रथम ये पता करने कि  कोशिश करें कि आपको किन चीजों से एलर्जी है.

इसके लिए आपको प्रयत्नपूर्वक, ध्यान  से अपने खान पान और रहनसहन को वाच करना पड़ेगा.

अगर आपने कारण अर्थात फैक्टर का पता लगा लिया तो समझो 80 प्रतिशत समस्या ऐसे ही हल कर ली.

एक बार आपके एलर्जी फैक्टर का पता चल जाये बस आपको उन चीजों से बचना और दूर रहना होगा.

जिन खाद्य  पदार्थों  से एलर्जी हो उन्हें नहीं खाएं.

पालतू  जानवरों से एलर्जी है तो उन्हें घर में ना रखें.

ज़िन पौधों के पराग कणों से एलर्जी है उनसे दूर रहें.

गरम से ठन्डे और ठन्डे से गरम वातावरण एकदम से ना जाएं.

ऐसे कमरे में रहें, जिसमे वेंटिलेशन अच्छा हो, खिडकियों से थोड़ी देर के लिए थोड़ी सी धुप भी आये तो सोने पे सुहागा.

अपने घर में अधिक से अधिक खुली और ताजा हवा आने का मार्ग  प्रशस्त करें.

अपने घर के आस पास गंदगी बिलकुल भी ना होने दें.

घर में मकड़ी वगैरह के जाले ना लगने दें, समय-समय पर साफ सफाई करते रहें.

प्रतिदिन इस्तेमाल किये जाने वाले गद्दे, रजाई, तकिये के कवर एवं चद्दर संभव हो तो प्रतिदिन नए धुले हुए इस्तेमाल करें.

पहनने के कपड़े, रुमाल आदि को गरम पानी से धोयें.

इस्तेमाल किये जाने वाले सभी कपड़ों को समय-समय पर धूप दिखाते रहें.

बाहर निकने तो आँखों पर धूप का अच्छी क़्वालिटी का चश्मा लगायें.

बाइक चलाते समय मुंह और नाक पर रुमाल या मास्क बांधें.

धूल, धुएं और मिट्टी से बचें, यदि यदि ऐसे वातावरण में काम करना ही पड़ जाये तो फेस मास्क पहन कर काम करें.

इन चीजों पर ईमानदारी से अमल करके अपनी एलर्जी की समस्या को मात दे सकते हैं.

अब जान लेते है उन घरेलु और आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में जिनका जिक्र हमने शुरू में किया था, जो एलर्जी के इलाज में हानिरहित और रामबाण मानी जाती हैं.

हल्दी से बनी आयुर्वेद की दवा हरिद्रा खंड भी एलर्जीजन्य त्वचा रोगों में बहुत गुणकारी  है

जिन लोगों को एलर्जी बार बार होती है या एलर्जी ने जिन्हें बहुत परेसान कर रखा है उन्हें सुबह भूखे पेट 1 चम्मच गिलोय और 2 चम्मच आंवले के रस में 1चम्मच शहद मिला कर कुछ समय तक लगातार लेना चाहिए इससे एलर्जी में बहुत आराम आता है.

आयुर्वेद की दवा सितोपलादि चूर्ण एवं गिलोय चूर्ण को 1-1 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम भूखे पेट शहद के साथ कुछ समय तक लगातार लेना भी एलर्जी में बहुत आराम देता है

सर्दीयों में घर पर बनाया हुआ आवले का हलवा या किसी अच्छी कंपनी का च्यवनप्राश खाना भी एलर्जी से बचने में सहायता करता है.

जिन्हे बार बार त्वचा की एलर्जी होती है उन्हें मार्चअप्रेल के महीने में, जब नीम के पेड़ पर कच्ची  कोंपलें आ रही हों, उस समय 5-7 कोंपलें, 2-3 कालीमिर्च के साथ अच्छी तरह चबा-चबा कर 15-20 दिनों तक खाने से एलर्जी के साथ ही अन्य त्वचा के रोग भी ठीक होते हैं

लेकिन ऑल इन वन बात यही है कि एलर्जी से बचाव ही एलर्जी का सर्वोत्तम इलाज है

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बिहार में पंचायत चुनाव की बजी बिगुल, 10 चरण में चुनाव

निर्वाचन आयोग की घोषणा के साथ राज्य में पंचायत चुनाव 2021 की अधिसूचना लागू हो गयी है। 10 चरणों में पंचायत चुनाव...

मुलेठी / यष्टीमधु अनेक रोगों की श्रेष्ठ औषधि

दौरे पड़ना (फिट आना)- सवेरे एवं सायंकाल 1 छोटी  चम्मच मुलेठी चूर्ण आधा गिलास कुम्हडे के रस के साथ...

Recent Comments